Friday 8 July 2011

Bujhe Trushnasha - Wishanal

बुझे तृष्णाशा-विषानल


बुझे तृष्णाशा-विषानल झरे भाषा अमृत-निर्झर,
उमड़ प्राणों से गहनतर छा गगन लें अवनि के स्वर ।

ओस के धोए अनामिल पुष्प ज्यों खिल किरण चूमे,

गंध-मुख मकरंद-उर सानन्द पुर-पुर लोग घूमे,
मिटे कर्षण से धरा के पतन जो होता भयंकर,
उमड़ प्राणों से निरन्तर छा गगन लें अवनि के स्वर ।

बढ़े वह परिचय बिंधा जो क्षुद्र भावों से हमारा,

क्षिति-सलिल से उठ अनिल बन देख लें हम गगन-कारा,
दूर हो तम-भेद यह जो वेद बनकर वर्ण-संकर,
पार प्राणों से करें उठ गगन को भी अवनि के स्वर । 

-सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"(Suryakaant Tripathi 'Nirala')


No comments:

Post a Comment