Sunday, 31 July, 2011

रे दिल गाफिल गफलत मत कर

रे दिल गाफिल गफलत मत कर,
एक दिना जम आवेगा ॥

सौदा करने या जग आया,
पूँजी लाया, मूल गॅंवाया,
प्रेमनगर का अन्त न पाया,
ज्यों आया त्यों जावेगा ॥ १॥

सुन मेरे साजन, सुन मेरे मीता,
या जीवन में क्या क्या कीता,
सिर पाहन का बोझा लीता,
आगे कौन छुडावेगा ॥ २॥

परलि पार तेरा मीता खडिया,
उस मिलने का ध्यान न धरिया,
टूटी नाव उपर जा बैठा,
गाफिल गोता खावेगा ॥ ३॥

दास कबीर कहै समुझाई,
अन्त समय तेरा कौन सहाई,
चला अकेला संग न कोई,
कीया अपना पावेगा ॥ ४॥

संत कबीरदास जी के दोहे

जैसी मुख तैं नीकसै, तैसी चालै चाल ।
पारब्रह्म नेड़ा रहै, पल में करै निहाल ॥1॥

भावार्थ - मुँह से जैसी बात निकले, उसीपर यदि आचरण किया जाय, वैसी ही चाल चली जाय, तो भगवान् तो अपने पास ही खड़ा है, और वह उसी क्षण निहाल कर देगा ।

पद गाए मन हरषियां, साषी कह्यां अनंद ।
सो तत नांव न जाणियां, गल में पड़िया फंद ॥2॥

भावार्थ - मन हर्ष में डूब जाता है पद गाते हुए, और साखियाँ कहने में भी आनन्द आता है । लेकिन सारतत्व को नहीं समझा, और हरिनाम का मर्म न समझा, तो गले में फन्दा ही पड़नेवाला है ।

Monday, 25 July, 2011

Dohas of Saint Kabirdas ji



 

Dukh mein sumiran sab kare,sukh mein kare na koye
jo sukh mein sumiran kare, tau dukh kahe ko hoye




Translation

While Suffering everyone Prays and Remembers Him, in joy no one does
If one prays and remembers Him in happiness, why would sorrow come?



Meaning

The suffering you experience in the world is designed to wake you up. You wake up when you realize God. If you did that during your happy times, then you will not experience suffering.Here Kabir wants to tell us that praying lord with earthly desires is not a good thing,we should be thankful to God in every type of curcumstances.





Kabir man nirmal bhaya, jaise Ganga neer
pache pache Hari phire, kahat Kabir Kabir



Kabir Washed His Mind Clean, Like The Holy Ganges River

Lord follows behind , Saying Kabir, Kabir


Kabir is telling a great thing that the most important thing for human beings is to clean mind i.e process of thinking or thoughts.It can be done only when we are devoted to Lord and then by his grace our thoughts will also become divine.That's what Kabir did and he says that he becomes so pious that even God starts searching him and calling him.



Gur dhobi sikh kapda, saboo sirjan har   
surti sila pur dhoiye, nikse jyoti apaar



Guru is the wash man, Sikh is the cloth , God the soap
Wash the mind thoroughly clean, Out Comes The Glow of Truth




Life is process of cleansing. Kabir wants to tell us that by the grace of Guru and with whole hearted devotion towards God one can achieve enlightenment.





Jeevat samjhe jeevat bujhe, jeevat hee karo aas
jeevat karam ki fansi na kaati, mue mukti ki aas



 
Alive one sees, alive one knows, find your liberation while alive
If Alive you do not cut the noose of your attachments , how will there be liberation with death?



Here Kabir wants to focus on the importance of liberation and he says that one should not avoid the importance of life.
According to Kabir The pupose of life is to achieve enlightenment or liberation and that can be possible only when we become alert to our evil thoughts and be engaged in cleaning the mind or thoughts.And if we dont realise the importance of our life we will waste our time and hence mislead our life.





Kabira garv na kijiye, kabahu na hasiye koy
Ajhu naav samunder mein, na jaane kya hoy



Dont feel proud, dont mock at anybody.
Your life is like a boat in the sea, who can say what may happen at any time.


This is a great doha of saint Kabir ji and has a very deep meaning inside as it tells the bad effects of our ego.It is foolish to be proud or to laugh at any one.
Here Kabir focuses precisely on those who think that they are more devoted to Lord than anyone else and that they are very spritual.Kabir warns us that with this thinking or attitude we can never become succesful i.e we can never get divinity because the path of devotion towards God is free from any evil thinking or act and ego is one of the biggest obstacle which can block our way.Infact following our wrong ego we can even start moving in wrong or opposite direction.Therefore it is very important to a devotee to be humble and even in inner mind and heart never have feeling of proud.






Saturday, 9 July, 2011

Dohas of Sant Kabir ji

विषय वासना उलझकर जन्म गंवाया बात
अब पछतावा क्या करे, निज करणी कर याद


You were entangled in the sensual pleasures. This is how you have wasted your life. You are repenting today. You should remind your past actions.


ज्ञान समागम प्रेम सुख, दया भक्ति बिश्वास
गुरु सेवा ते पाइये, सतगुरु चरण निवास


Knowledge, association with good, love, happiness, mercy, devotion and faith. All this after being in the service at the feet of a good preceptor.



गुरु कुम्भार सीस कुम्भ है, घडी घडी काडे खोट
अन्दर हाथ सवर दे, बाहर मारे चोट


A preceptor is like a potter (earthman) and a disciple is like a pot. A potter hits the pot from outside and provides every support from within.


कबीरा मन पंछी भया, भावे तहा आ जाय
जो जैसी संगत करे, सो तैसा फल पाय


A mind is like a bird. It goes where it likes. The results one gets is for the company he keeps.


कबीरा ज्ञान बिचार बिन, हरी ढूंढन को जाय
तन में त्रिलोकी बसे, अब तक परखा नाय


Kabir says that you are searching God without proper thinking and knowledge. He is there within you. You dont know how to see.

Ankho me jal raha hai kyu? bujhta nahi dhua

 
Ankho me jal raha hai kyu? bujhta nahi dhua
uthtaa to hai ghata sa barasta nahi dhua
 
 

Ankho me jal raha hai kyu?bujhta nahi dhua
 
 
Chulae nahe jalaye ya baste hi jal gayi
kuch roz ho gaye hain ab uthtaa nahi dhua
 
 
 
Ankho me jal raha hai kyu? bujhta nahi dhua


 
Ankho ke poachne se laga aanch ka pata
yun chera pher lene se chupta nahi dhua
 

Ankho se ansuoo ke marasim purane hai
mehmaa yeh ghar me aaye to chubhta nahi dhua
 
 
 
Uthtaa to hai ghata sa barasta nahi dhua
ankho me jal raha hai kyu? Bhujta nahi dhua 



- Gulzaar

Ga_ii vo baat ki ho guftaguu to kyo.nkar ho


Ga_ii vo baat ki ho guftaguu to kyo.nkar ho 
 
 
 
Ga_ii vo baat ki ho guftaguu to kyo.nkar ho
kahe se kuchh na huaa phir kaho to kyo.nkar ho



hamaare zahan me.n is fikr kaa hai naam visaal
ki gar na ho to kahaa.N jaaye.n ho to kyo.nkar ho
 


adab hai aur yahii kashamakash to kyaa kiije
hayaa hai aur yahii gomago to kyo.nkar ho
 


tumhii.n kaho ki guzaaraa sanam parasto.n kaa
buto.n kii ho agar aisii hii Khuu to kyo.nkar ho


 
uljhate ho tum agar dekhate ho aaiinaa
jo tum se shahar me.n ho ek do to kyo.nkar ho



jise nasiib ho roz-e-siyaah meraa saa
vo shaKhs din na kahe raat ko to kyo.nkar ho



hame.n phir un se umiid aur unhe.n hamaarii qadr
hamaarii baat hii puchhe na vo to kyo.nkar ho



Galat na thaa hame.n Khat par gumaa.N tasallii kaa
na maane diidaa-e-diidaar juu to kyo.nkar ho
 


bataa_o us mishaa ko dekhakar ho mujh ko qaraar
yah nesh ho rag-e-jaa.n me.n faro to kyo.nkar ho
 


mujhe junuu.n nahii.n Gaalib vale baqaul-e-huzuur
firaaq-e-yaar me.n taskiin ho to kyo.nkar ho
 
 
 
 
-Mirza Ghalib

Ghar hamaaraa, jo na rote bhii, to viraan hotaa

Ghar hamaaraa, jo na rote bhii, to viraan hotaa

 
Ghar hamaaraa, jo na rote bhii, to viraan hotaa
bahr gar bahr na hotaa to bayaabaan hotaa


ta.ngi-e-dil kaa gilaa kyaa, ye wo kaafir dil hai
ke agar ta.ng na hotaa, to pareshaan hotaa


baad-e-yak umr-e-waraa, baar to detaa baare
kaash rizawaa.N hii dar-e-yaar kaa darabaan hotaa 



-Mirza Ghalib



Bas ki dushwaar hai har kaam ka aasaan honaa


Bas ki dushwaar hai har kaam ka aasaan honaa
aadamii ko bhii mayassar nahii.n insaan honaa

[dushwaar=difficult; mayassar=possible]



giriyaa chaahe hai Kharaabii mere kaashaane kii
dar-o-diivaar se Tapake hai bayaabaan honaa

[giriyaa=wiiping; kaashaanaa=small house; bayaabaan=wilderness]



waa-e-diiwaangii-e-shauq ke har dam mujh ko
aap jaanaa udhar aur aap hii hairaan honaa



jalvaa az_bas ke taqaaza-e-nigah karataa hai
jauhar-e-aaiina bhii chaahe hai mizagaan honaa

[az_bas=intensely; jauhar=skill/knowledge, mizaGaa.N=eyelid]



ishrat-e-qatl_gah-e-ahal-e-tamannaa mat puuchh
iid-e-nazzaaraa hai shamashiir kaa uriyaan honaa

[ishrat=joy/delight, shamashiir=sword, uriyaa.N=naked/bare]



le gaye Khaak me.n ham daaG-e-tamannaa-e-nishaat
tuu ho aur aap ba_sad_rang-e-gulistaan  honaa

[nishaat (or nashaat)=enthusiasm/happiness, sad_rang=hundred colours]



ishrat-e-paaraa-e-dil, zaKhm-e-tamannaa_Khaanaa
lazzat-e-riish-e-jigar Garq-e-namakdaan honaa

[ishrat=joy/delight; paaraa=fragment/piecek lazzat=taste]
[riish=wound; Garq=drown/sink; namakdaa.N=container to keep salt]



kii mere qatl ke baad us ne jafaa se taubaa
haaye us zod_pashemaan kaa pashemaan honaa

[zod=quickly; pashemaan=ashamed/embarrassed]



haif us chaar girah kapa.De kii qismat 'Ghalib'
jis kii qismat me.n ho aashiq kaa garebaan honaa

[haif=alas!; girah=one sixteenth of a yard; garebaan=collar] 



- Mirza Ghalib

Jis sar ko garuur aaj hai yaan taajavarii kaa


Jis sar ko garuur aaj hai yaan taajavarii kaa
 



Jis sar ko garuur aaj hai yaan taajavarii kaa
kal us pe yahii.n shor hai phir nauhaagarii kaa

[taajavarii=to reign; nauhagarii=to mourn]



aafaaq kii ma.nzil se gayaa kaun salaamat
asabaab luTaa raah me.n yaa.N har safarii kaa

[aafaaq=zenith; asabaab=belongings; safarii=traveller]



zi.ndaa.N me.n bhii shorish na ga_ii apane junuu.N kii
ab sang madaavaa hai is aashuftaasarii kaa

[zi.ndaa.N=prison; shorish=turbulence (upadrav); sang=stone]
[madaavaa=cure; aashuftaasarii=mad (one who has lost his senses)]



har zaKhm-e-jigar daavar-e-mahashar se hamaaraa
i.nsaaf talab hai terii bedaadagarii kaa

[daavar-e-mahashar=God]
is rang se jhamake hai palak par ke kahe tuu
Tukaraa hai meraa ashk aqiiq-e-jigarii kaa 



le saa.Ns bhii naazuk ke aahistaa hai bahut kaam
aafaaq kii is kaaragah-e-shiishaagarii kaa

[kaaragah-e-shiishaagarii=glass factory]



Tuk miir-e-jigar-soKhtaa kii jald Khabar le
kyaa yaar bharosaa hai chiraaG-e-saharii kaa

[miir-e-jigar-soKhtaa=Miir with the burnt liver] 




- Meer Taqi Meer

Baaziichaa-e-atfaal hai duniyaa mere aage


Baaziichaa-e-atfaal hai duniyaa mere aage 


 
Baaziichaa-e-atfaal hai duniyaa mere aage 
hotaa hai shab-o-roz tamaashaa mere aage 

[baaziichaa-e-atfaal = child's play] 



ik khel hai aurang-e-sulemaa.N mere nazadiik 
ik baat hai ejaaz-e-masiihaa mere aage 

[aurang = throne; ejaaz = miracle] 


juz naam nahii.n suurat-e-aalam mujhe manzuur 
juz vaham nahii.n hastii-e-ashiyaa mere aage 

[juz = other than; aalam = world; ashiyaa = things] 


 
hotaa hai nihaa.N gard me.n seharaa mere hote 
ghisataa hai jabii.n Khaak pe dariyaa mere aage 

[nihaa.N = hidden; gard = dust]
[seharaa = desert, jabii.n = forehead] 
 


mat puuchh ke kyaa haal hai meraa tere piichhe 
tuu dekh ke kyaa rang hai teraa mere aage 
 

[Khud_biin = proud/arrogant, Khud_aaraa = self adorer] 
[but-e-aa_iinaa = lover's mirror; siimaa = particularly] 
 


phir dekhiye andaaz-e-gul_afshaanii-e-guftaar 
rakh de ko_ii paimaanaa-e-sahabaa mere aage 

[gul_afshaanii-e-guftaar = to 
scatter flowers while speaking]
[sahaba = wine] 
 


nafrat ka gumaa.N guzare hai mai.n rashk se guzaraa 
kyo.N kar kahuu.N lo naam naa us kaa mere aage 

[gumaaN = suspicion/doubt; rashk = envy] 
 
 
 


aashiq huu.N pe maashuuq_farebii hai mera kaam 
majanuu.N ko buraa kahatii hai lailaa mere aage 
 


[mauj_zan = turbulent (as in waves)]
[qulzum = sea, Khuu.N = blood] 

 
 
go haath ko jumbish nahi aankhon me to dam hai 
rahane do abhii saaGar-o-miinaa mere aage 

[jumbish = movement; saaGar-o-miinaa = glass
 of wine] 

 
 
ham_peshaa-o-ham_masharab-o-ham_raaz  hai meraa 
'Ghalib' ko buraa kyun kaho achchhaa mere aage 

 
[ham_peshaa = of the same profession]
[ham_masharab = of the same habits(i.e. a fellow
drinker)] 
[ham_raaz = confidante] 

 
 
 
- Mirza Ghalib

Aaiinaa kyun na dun ke tamaashaa kahen jise

aaiinaa kyun na dun ke tamaashaa kahen jise
aisa kahan se laun ke tujhsaa kahen jise


hasarat ne laa rakhaa teri bazm-e-khayaal men
guldastaa-e-nigaah suvedaa kahen jise


phuunkaa hai kisne goshe muhabbat men ai Khudaa
afasuun-e-intazaar tamannaa kahen jise


sar par hujuum-e-dard-e-Gariibii se Daliye
vo ek musht-e-Khaak ke saharaa kahen jise


hai chashm-e-tar men hasarat-e-diidaar se nihaan
shauq-e-inaan guseKhtaa dariyaa kahen jise


darakaar hai shiguftan-e-gul haaye aish ko
sub_h-e-bahaar panbaa-e-miinaa kahen jise


"Ghalib" buraa na maan jo vaaiz buraa kahe
aisaa bhii koi hai ke sab achchhaa kahen jise



- Mirza Ghalib 

Friday, 8 July, 2011

Wishwa chahe ya na chahe

विश्व चाहे या न चाहे,
लोग समझें या न समझें,
आ गए हैं हम यहाँ तो गीत गाकर ही उठेंगे।
हर नज़र ग़मगीन है, हर होठ ने धूनी रमाई,
हर गली वीरान जैसे हो कि बेवा की कलाई,
ख़ुदकुशी कर मर रही है रोशनी तब आँगनों में
कर रहा है आदमी जब चाँद-तारों पर चढ़ाई,
फिर दीयों का दम न टूटे,
फिर किरन को तम न लूटे,
हम जले हैं तो धरा को जगमगा कर ही उठेंगे।
विश्व चाहे या न चाहे
हम नहीं उनमें हवा के साथ जिनका साज़ बदले,
साज़ ही केवल नहीं अंदाज़-औ-आवाज़ बदले,
उन फ़कीरों-सिरफिरों के हमसफ़र हम, हमउम्र हम,
जो बदल जाएँ अगर तो तख़्त बदले ताज बदले,
तुम सभी कुछ काम कर लो,
हर तरह बदनाम कर लो,
हम कहानी प्यार की पूरी सुनाकर ही उठेंगे।
विश्व चाहे या न चाहे
नाम जिसका आँक गोरी हो गई मैली सियाही,
दे रहा है चाँद जिसके रूप की रोकर गवाही,
थाम जिसका हाथ चलना सीखती आँधी धरा पर
है खड़ा इतिहास जिसके द्वार पर बनकर सिपाही,
आदमी वह फिर न टूटे,
वक़्त फिर उसको न लूटे,
जिन्दगी की हम नई सूरत बनाकर ही उठेंगे।
विश्व चाहे या न चाहे
हम न अपने आप ही आए दुखों के इस नगर में,
था मिला तेरा निमंत्रण ही हमें आधे सफ़र में,
किन्तु फिर भी लौट जाते हम बिना गाए यहाँ से
जो सभी को तू बराबर तौलता अपनी नज़र में,
अब भले कुछ भी कहे तू,
खुश कि या नाखुश रहे तू,
गाँव भर को हम सही हालत बताकर ही उठेंगे।
विश्व चाहे या न चाहे
इस सभा की साज़िशों से तंग आकर, चोट खाकर
गीत गाए ही बिना जो हैं गए वापिस मुसाफ़िर
और वे जो हाथ में मिज़राब पहने मुश्‍किलों की
दे रहे हैं जिन्दगी के साज़ को सबसे नया स्वर,
मौर तुम लाओ न लाओ,
नेग तुम पाओ न पाओ,
हम उन्हें इस दौर का दूल्हा बनाकर ही उठेंगे।
विश्व चाहे या न चाहे 

- Gopal Das 'Neeraj' (गोपाल दस नीरज )

Yeh dharti kitna deti hai

यह धरती कितना देती है 


मैंने छुटपन में छिपकर पैसे बोये थे,
सोचा था, पैसों के प्यारे पेड़ उगेंगे,
रुपयों की कलदार मधुर फसलें खनकेंगी
और फूल फलकर मै मोटा सेठ बनूँगा!
पर बंजर धरती में एक न अंकुर फूटा,
बन्ध्या मिट्टी नें न एक भी पैसा उगला!-
सपने जाने कहाँ मिटे, कब धूल हो गये!
मैं हताश हो बाट जोहता रहा दिनों तक
बाल-कल्पना के अपलर पाँवडडे बिछाकर
मैं अबोध था, मैंने गलत बीज बोये थे,
ममता को रोपा था, तृष्णा को सींचा था!



अर्द्धशती हहराती निकल गयी है तबसे!
कितने ही मधु पतझर बीत गये अनजाने,
ग्रीष्म तपे, वर्षा झूली, शरदें मुसकाई;
सी-सी कर हेमन्त कँपे, तरु झरे, खिले वन!
औ\' जब फिर से गाढ़ी, ऊदी लालसा लिये
गहरे, कजरारे बादल बरसे धरती पर,
मैंने कौतूहल-वश आँगन के कोने की
गीली तह यों ही उँगली से सहलाकर
बीज सेम के दबा दिये मिट्टी के नीचे-
भू के अंचल में मणि-माणिक बाँध दिये हो!
मैं फिर भूल गया इस छोटी-सी घटना को,
और बात भी क्या थी याद जिसे रखता मन!
किन्तु, एक दिन जब मैं सन्ध्या को आँगन में
टहल रहा था,- तब सहसा, मैने देखा
उसे हर्ष-विमूढ़ हो उठा मैं विस्मय से! 



देखा-आँगन के कोने में कई नवागत
छोटे-छोटे छाता ताने खड़े हुए हैं!
छांता कहूँ कि विजय पताकाएँ जीवन की,
या हथेलियाँ खोले थे वे नन्हीं प्यारी-
जो भी हो, वे हरे-हरे उल्लास से भरे
पंख मारकर उड़ने को उत्सुक लगते थे-
डिम्ब तोड़कर निकले चिडियों के बच्चों से!
निर्निमेष, क्षण भर, मैं उनको रहा देखता-
सहसा मुझे स्मरण हो आया,-कुछ दिन पहिले
बीज सेम के मैने रोपे थे आँगन में,
और उन्हीं से बौने पौधो की यह पलटन
मेरी आँखों के सम्मुख अब खड़ी गर्व से,
नन्हें नाटे पैर पटक, बढती जाती है!


तब से उनको रहा देखता धीरे-धीरे

अनगिनती पत्तों से लद, भर गयी झाड़ियाँ,
हरे-भरे टंग गये कई मखमली चँदोवे!
बेलें फैल गयी बल खा, आँगन में लहरा,
और सहारा लेकर बाड़े की टट्टी का
हरे-हरे सौ झरने फूट पड़े ऊपर को,-
मैं अवाक् रह गया-वंश कैसे बढ़ता है!
छोटे तारों-से छितरे, फूलों के छीटे
झागों-से लिपटे लहरों श्यामल लतरों पर
सुन्दर लगते थे, मावस के हँसमुख नभ-से,
चोटी के मोती-से, आँचल के बूटों-से!


ओह, समय पर उनमें कितनी फलियाँ फूटी!

कितनी सारी फलियाँ, कितनी प्यारी फलियाँ,-
पतली चौड़ी फलियाँ! उफ उनकी क्या गिनती!
लम्बी-लम्बी अँगुलियों - सी नन्हीं-नन्हीं
तलवारों-सी पन्ने के प्यारे हारों-सी,
झूठ न समझे चन्द्र कलाओं-सी नित बढ़ती,
सच्चे मोती की लड़ियों-सी, ढेर-ढेर खिल
झुण्ड-झुण्ड झिलमिलकर कचपचिया तारों-सी!
आः इतनी फलियाँ टूटी, जाड़ो भर खाई,
सुबह शाम वे घर-घर पकीं, पड़ोस पास के
जाने-अनजाने सब लोगों में बँटबाई
बंधु-बांधवों, मित्रों, अभ्यागत, मँगतों ने
जी भर-भर दिन-रात महुल्ले भर ने खाई !-
कितनी सारी फलियाँ, कितनी प्यारी फलियाँ!


यह धरती कितना देती है! धरती माता

कितना देती है अपने प्यारे पुत्रों को!
नही समझ पाया था मैं उसके महत्व को,-
बचपन में छिः स्वार्थ लोभ वश पैसे बोकर!
रत्न प्रसविनी है वसुधा, अब समझ सका हूँ।
इसमें सच्ची समता के दाने बोने है;
इसमें जन की क्षमता का दाने बोने है,
इसमें मानव-ममता के दाने बोने है,-
जिससे उगल सके फिर धूल सुनहली फसलें
मानवता की, - जीवन श्रम से हँसे दिशाएँ-
हम जैसा बोयेंगे वैसा ही पायेंगे। 



- सुमित्रानंदन पन्त (Sumitranandan Pant)    

Bujhe Trushnasha - Wishanal

बुझे तृष्णाशा-विषानल


बुझे तृष्णाशा-विषानल झरे भाषा अमृत-निर्झर,
उमड़ प्राणों से गहनतर छा गगन लें अवनि के स्वर ।

ओस के धोए अनामिल पुष्प ज्यों खिल किरण चूमे,

गंध-मुख मकरंद-उर सानन्द पुर-पुर लोग घूमे,
मिटे कर्षण से धरा के पतन जो होता भयंकर,
उमड़ प्राणों से निरन्तर छा गगन लें अवनि के स्वर ।

बढ़े वह परिचय बिंधा जो क्षुद्र भावों से हमारा,

क्षिति-सलिल से उठ अनिल बन देख लें हम गगन-कारा,
दूर हो तम-भेद यह जो वेद बनकर वर्ण-संकर,
पार प्राणों से करें उठ गगन को भी अवनि के स्वर । 

-सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"(Suryakaant Tripathi 'Nirala')


Badal ko ghirte dekha hai

बादल को घिरते देखा है


अमल धवल गिरि के शिखरों पर,
बादल को घिरते देखा है।
छोटे-छोटे मोती जैसे
उसके शीतल तुहिन कणों को,
मानसरोवर के उन स्वर्णिम
कमलों पर गिरते देखा है,
बादल को घिरते देखा है।





तुंग हिमालय के कंधों पर
छोटी बड़ी कई झीलें हैं,
उनके श्यामल नील सलिल में
समतल देशों ले आ-आकर
पावस की उमस से आकुल
तिक्त-मधुर बिसतंतु खोजते
हंसों को तिरते देखा है।
बादल को घिरते देखा है।




ऋतु वसंत का सुप्रभात था
मंद-मंद था अनिल बह रहा
बालारुण की मृदु किरणें थीं
अगल-बगल स्वर्णाभ शिखर थे
एक-दूसरे से विरहित हो
अलग-अलग रहकर ही जिनको
सारी रात बितानी होती,
निशा-काल से चिर-अभिशापित
बेबस उस चकवा-चकई का
बंद हुआ क्रंदन, फिर उनमें
उस महान् सरवर के तीरे
शैवालों की हरी दरी पर
प्रणय-कलह छिड़ते देखा है।
बादल को घिरते देखा है।




दुर्गम बर्फानी घाटी में
शत-सहस्र फुट ऊँचाई पर
अलख नाभि से उठने वाले
निज के ही उन्मादक परिमल-
के पीछे धावित हो-होकर
तरल-तरुण कस्तूरी मृग को
अपने पर चिढ़ते देखा है,
बादल को घिरते देखा है।




कहाँ गय धनपति कुबेर वह
कहाँ गई उसकी वह अलका
नहीं ठिकाना कालिदास के
व्योम-प्रवाही गंगाजल का,
ढूँढ़ा बहुत किन्तु लगा क्या
मेघदूत का पता कहीं पर,
कौन बताए वह छायामय
बरस पड़ा होगा न यहीं पर,
जाने दो वह कवि-कल्पित था,
मैंने तो भीषण जाड़ों में
नभ-चुंबी कैलाश शीर्ष पर,
महामेघ को झंझानिल से
गरज-गरज भिड़ते देखा है,
बादल को घिरते देखा है।




शत-शत निर्झर-निर्झरणी कल
मुखरित देवदारु कनन में,
शोणित धवल भोज पत्रों से
छाई हुई कुटी के भीतर,
रंग-बिरंगे और सुगंधित
फूलों की कुंतल को साजे,
इंद्रनील की माला डाले
शंख-सरीखे सुघड़ गलों में,
कानों में कुवलय लटकाए,
शतदल लाल कमल वेणी में,
रजत-रचित मणि खचित कलामय
पान पात्र द्राक्षासव पूरित
रखे सामने अपने-अपने
लोहित चंदन की त्रिपटी पर,
नरम निदाग बाल कस्तूरी
मृगछालों पर पलथी मारे
मदिरारुण आखों वाले उन
उन्मद किन्नर-किन्नरियों की
मृदुल मनोरम अँगुलियों को
वंशी पर फिरते देखा है।
बादल को घिरते देखा है।


- नागार्जुन ( Nagarjun)

Boodha chaand

बूढा चांद

बूढा चांद
कला की गोरी बाहों में
क्षण भर सोया है

यह अमृत कला है

शोभा असि,
वह बूढा प्रहरी
प्रेम की ढाल!

हाथी दांत की

स्‍वप्‍नों की मीनार
सुलभ नहीं,-
न सही!
ओ बाहरी
खोखली समते,
नाग दंतों
विष दंतों की खेती
मत उगा!

राख की ढेरी से ढंका

अंगार सा
बूढा चांद
कला के विछोह में
म्‍लान था,
नये अधरों का अमृत पीकर
अमर हो गया!

पतझर की ठूंठी टहनी में

कुहासों के नीड़ में
कला की कृश बांहों में झूलता
पुराना चांद ही
नूतन आशा
समग्र प्रकाश है!

वही कला,

राका शशि,-
वही बूढा चांद,
छाया शशि है! 


- सुमित्रानंदन पंत (Sumitranandan Pant)

Parichay

परिचय
  

सलिल कण हूँ, या पारावार हूँ मैं
स्वयं छाया, स्वयं आधार हूँ मैं
बँधा हूँ, स्वपन हूँ, लघु वृत हूँ मैं
नहीं तो व्योम का विस्तार हूँ मैं


समाना चाहता है, जो बीन उर में
विकल उस शुन्य की झनंकार हूँ मैं
भटकता खोजता हूँ, ज्योति तम में
सुना है ज्योति का आगार हूँ मैं


जिसे निशि खोजती तारे जलाकर
उसीका कर रहा अभिसार हूँ मैं
जनम कर मर चुका सौ बार लेकिन
अगम का पा सका क्या पार हूँ मैं


कली की पंखडीं पर ओस-कण में
रंगीले स्वपन का संसार हूँ मैं
मुझे क्या आज ही या कल झरुँ मैं
सुमन हूँ, एक लघु उपहार हूँ मैं


मधुर जीवन हुआ कुछ प्राण! जब से
लगा ढोने व्यथा का भार हूँ मैं
रुंदन अनमोल धन कवि का, इसी से
पिरोता आँसुओं का हार हूँ मैं


मुझे क्या गर्व हो अपनी विभा का
चिता का धूलिकण हूँ, क्षार हूँ मैं
पता मेरा तुझे मिट्टी कहेगी
समा जिस्में चुका सौ बार हूँ मैं


न देंखे विश्व, पर मुझको घृणा से
मनुज हूँ, सृष्टि का श्रृंगार हूँ मैं
पुजारिन, धुलि से मुझको उठा ले
तुम्हारे देवता का हार हूँ मैं


सुनुँ क्या सिंधु, मैं गर्जन तुम्हारा
स्वयं युग-धर्म की हुँकार हूँ मैं
कठिन निर्घोष हूँ भीषण अशनि का
प्रलय-गांडीव की टंकार हूँ मैं


दबी सी आग हूँ भीषण क्षुधा का
दलित का मौन हाहाकार हूँ मैं
सजग संसार, तू निज को सम्हाले
प्रलय का क्षुब्ध पारावार हूँ मैं
बंधा तुफान हूँ, चलना मना है

बँधी उद्याम निर्झर-धार हूँ मैं
कहूँ क्या कौन हूँ, क्या आग मेरी
बँधी है लेखनी, लाचार हूँ मैं ।।


- रामधारी सिंह दिनकर (Ramdhari Singh Dinkar)

Tufano ki oor ghuma do naavik nij patwaar


तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार


तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार

आज सिन्धु ने विष उगला है
लहरों का यौवन मचला है
आज ह्रदय में और सिन्धु में
साथ उठा है ज्वार


तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार
लहरों के स्वर में कुछ बोलो
इस अंधड में साहस तोलो
कभी-कभी मिलता जीवन में
तूफानों का प्यार

तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार


यह असीम, निज सीमा जाने
सागर भी तो यह पहचाने
मिट्टी के पुतले मानव ने
कभी ना मानी हार

तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार


सागर की अपनी क्षमता है
पर माँझी भी कब थकता है
जब तक साँसों में स्पन्दन है
उसका हाथ नहीं रुकता है
इसके ही बल पर कर डाले
सातों सागर पार

तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार 

 
- शिवमंगल सिंह सुमन (Shiv Mangal Singh Suman)

Hai andheri raat par deeya jalana kab mana hai



है अँधेरी रात पर दीया जलाना कब मना है

 


कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था
भावना के हाथ ने जिसमें वितानों को तना था




स्वप्न ने अपने करों से था जिसे रुचि से सँवारा
स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों से, रसों से जो सना था
ढह गया वह तो जुटाकर ईंट, पत्थर, कंकड़ों को
एक अपनी शांति की कुटिया बनाना कब मना है



है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

बादलों के अश्रु से धोया गया नभ-नील नीलम
का बनाया था गया मधुपात्र मनमोहक, मनोरम
प्रथम ऊषा की किरण की लालिमा-सी लाल मदिरा
थी उसी में चमचमाती नव घनों में चंचला सम
वह अगर टूटा मिलाकर हाथ की दोनों हथेली
एक निर्मल स्रोत से तृष्णा बुझाना कब मना है 

है अँधेरी रात पर दीया जलाना कब मना है 

क्या घड़ी थी, एक भी चिंता नहीं थी पास आई
कालिमा तो दूर, छाया भी पलक पर थी न छाई
आँख से मस्ती झपकती, बात से मस्ती टपकती
थी हँसी ऐसी जिसे सुन बादलों ने शर्म खाई
वह गई तो ले गई उल्लास के आधार, माना
पर अथिरता पर समय की मुसकराना कब मना है
 


है अँधेरी रात पर दीया जलाना कब मना है

हाय, वे उन्माद के झोंके कि जिनमें राग जागा
वैभवों से फेर आँखें गान का वरदान माँगा
एक अंतर से ध्वनित हों दूसरे में जो निरंतर
भर दिया अंबर-अवनि को मत्तता के गीत गा-गा
अंत उनका हो गया तो मन बहलने के लिए ही
ले अधूरी पंक्ति कोई गुनगुनाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीया
जलाना कब मना है



हाय, वे साथी कि चुंबक लौह-से जो पास आए
पास क्या आए, हृदय के बीच ही गोया समाए
दिन कटे ऐसे कि कोई तार वीणा के मिलाकर
एक मीठा और प्यारा ज़िन्दगी का गीत गाए
वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे
खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है
है अँधेरी रात पर
दीया जलाना कब मना है 


क्या हवाएँ थीं कि उजड़ा प्यार का वह आशियाना
कुछ न आया काम तेरा शोर करना, गुल मचाना
नाश की उन शक्तियों के साथ चलता ज़ोर किसका
किंतु ऐ निर्माण के प्रतिनिधि, तुझे होगा बताना
जो बसे हैं वे उजड़ते हैं प्रकृति के जड़ नियम से
पर किसी उजड़े हुए को फिर बसाना कब मना है
है अँधेरी रात पर
दीया जलाना कब मना है



- हरिवंश राय बच्चन (Harivansh Ray Bachhan)


Thursday, 7 July, 2011

Nar ho na niraash karo mann ko

नर हो न निराश करो मन को
 
नर हो न निराश करो मन को
कुछ काम करो कुछ काम करो
जग में रहके निज नाम करो
यह जन्म हुआ किस अर्थ अहो
समझो जिसमें यह व्यर्थ न हो
कुछ तो उपयुक्त करो तन को
नर हो न निराश करो मन को ।


संभलो कि सुयोग न जाए चला
कब व्यर्थ हुआ सदुपाय भला
समझो जग को न निरा सपना
पथ आप प्रशस्त करो अपना
अखिलेश्वर है अवलम्बन को
नर हो न निराश करो मन को ।


जब प्राप्त तुम्हें सब तत्त्व यहाँ
फिर जा सकता वह सत्त्व कहाँ
तुम स्वत्त्व सुधा रस पान करो
उठके अमरत्व विधान करो
दवरूप रहो भव कानन को
नर हो न निराश करो मन को ।


निज गौरव का नित ज्ञान रहे
हम भी कुछ हैं यह ध्यान रहे
सब जाय अभी पर मान रहे
मरणोत्तर गुंजित गान रहे
कुछ हो न तजो निज साधन को
नर हो न निराश करो मन को ।


- मैथिलीशरण गुप्त (Maithili Sharan Gupt)

Pushp ki abhilasha

पुष्प की अभिलाषा
 
चाह नहीं मैं सुरबाला के
गहनों में गूँथा जाऊँ



चाह नहीं, प्रेमी-माला में
बिंध प्यारी को ललचाऊँ



चाह नहीं, सम्राटों के शव
पर हे हरि, डाला जाऊँ



चाह नहीं, देवों के सिर पर
चढ़ूँ भाग्य पर इठलाऊँ



मुझे तोड़ लेना वनमाली
उस पथ पर देना तुम फेंक


मातृभूमि पर शीश चढ़ाने
जिस पर जावें वीर अनेक ।।


- माखनलाल चतुर्वेदी (Makhanlal Chaturvedi)



Itne unche utho

इतने ऊँचे उठो
 
इतने ऊँचे उठो कि जितना उठा गगन है।
देखो इस सारी दुनिया को एक दृष्टि से
सिंचित करो धरा, समता की भाव वृष्टि से
जाति भेद की, धर्म-वेश की
काले गोरे रंग-द्वेष की
ज्वालाओं से जलते जग में
इतने शीतल बहो कि जितना मलय पवन है॥



नये हाथ से, वर्तमान का रूप सँवारो
नयी तूलिका से चित्रों के रंग उभारो
नये राग को नूतन स्वर दो
भाषा को नूतन अक्षर दो
युग की नयी मूर्ति-रचना में
इतने मौलिक बनो कि जितना स्वयं सृजन है॥



लो अतीत से उतना ही जितना पोषक है
जीर्ण-शीर्ण का मोह मृत्यु का ही द्योतक है
तोड़ो बन्धन, रुके न चिंतन
गति, जीवन का सत्य चिरन्तन
धारा के शाश्वत प्रवाह में
इतने गतिमय बनो कि जितना परिवर्तन है।



चाह रहे हम इस धरती को स्वर्ग बनाना
अगर कहीं हो स्वर्ग, उसे धरती पर लाना
सूरज, चाँद, चाँदनी, तारे
सब हैं प्रतिपल साथ हमारे
दो कुरूप को रूप सलोना
इतने सुन्दर बनो कि जितना आकर्षण है॥


- द्वारिका प्रसाद महेश्वरी (Dwarika Prasad Maheshwari)



Chhip chhip ashru bahane walon


छिप-छिप अश्रु बहाने वालों
 



छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
कुछ सपनों के मर जाने से, जीवन नहीं मरा करता है | 
सपना क्या है, नयन सेज पर
सोया हुआ आँख का पानी
और टूटना है उसका ज्यों
जागे कच्ची नींद जवानी
गीली उमर बनाने वालों, डूबे बिना नहाने वालों
कुछ पानी के बह जाने से, सावन नहीं मरा करता है |




माला बिखर गयी तो क्या है
खुद ही हल हो गयी समस्या
आँसू गर नीलाम हुए तो
समझो पूरी हुई तपस्या
रूठे दिवस मनाने वालों, फटी कमीज़ सिलाने वालों
कुछ दीपों के बुझ जाने से, आँगन नहीं मरा करता है |




खोता कुछ भी नहीं यहाँ पर
केवल जिल्द बदलती पोथी
जैसे रात उतार चाँदनी
पहने सुबह धूप की धोती
वस्त्र बदलकर आने वालों, चाल बदलकर जाने वालों
चँद खिलौनों के खोने से, बचपन नहीं मरा करता है |




लाखों बार गगरियाँ फ़ूटी,
शिकन न आयी पर पनघट पर
लाखों बार किश्तियाँ डूबीं,
चहल पहल वो ही है तट पर
तम की उमर बढ़ाने वालों, लौ की आयु घटाने वालों,
लाख करे पतझड़ कोशिश पर, उपवन नहीं मरा करता है।




लूट लिया माली ने उपवन,
लुटी ना लेकिन गंध फ़ूल की
तूफ़ानों ने तक छेड़ा पर,
खिड़की बंद ना हुई धूल की
नफ़रत गले लगाने वालों, सब पर धूल उड़ाने वालों
कुछ मुखड़ों के की नाराज़ी से, दर्पण नहीं मरा करता है।


- गोपालदास "नीरज" (Gopaldas Neeraj)

Hum panchhi unmukt gagan ke


हम पंछी उन्मुक्त गगन के


हम पंछी उन्मुक्त गगन के
पिंजरबद्ध न गा पाऍंगे
कनक-तीलियों से टकराकर
पुलकित पंख टूट जाऍंगे ।


हम बहता जल पीनेवाले
मर जाऍंगे भूखे-प्यासे
कहीं भली है कटुक निबोरी
कनक-कटोरी की मैदा से ।


स्वर्ण-श्रृंखला के बंधन में
अपनी गति, उड़ान सब भूले
बस सपनों में देख रहे हैं
तरू की फुनगी पर के झूले ।


 ऐसे थे अरमान कि उड़ते
नील गगन की सीमा पाने
लाल किरण-सी चोंच खोल
चुगते तारक-अनार के दाने ।


होती सीमाहीन क्षितिज से
इन पंखों की होड़ा-होड़ी
या तो क्षितिज मिलन बन जाता
या तनती सॉंसों की डोरी ।


नीड़ न दो, चाहे टहनी का
आश्रय छिन्न-भिन्न कर डालो
लेकिन पंख दिए हैं तो
आकुल उड़ान में विघ्न न डालो ।


- ShivMangal Singh Suman (शिवमंगल सिंह सुमन)

Ek bhi aasun na kar bekaar

एक भी आँसू न कर बेकार


एक भी आँसू न कर बेकार
जाने कब समंदर मांगने आ जाए!


पास प्यासे के कुआँ आता नहीं है
यह कहावत है, अमरवाणी नहीं है
और जिस के पास देने को न कुछ भी
एक भी ऐसा यहाँ प्राणी नहीं है



कर स्वयं हर गीत का श्रृंगार
जाने देवता को कौनसा भा जाय!


चोट खाकर टूटते हैं सिर्फ दर्पण
किन्तु आकृतियाँ कभी टूटी नहीं हैं
आदमी से रूठ जाता है सभी कुछ
पर समस्यायें कभी रूठी नहीं हैं



हर छलकते अश्रु को कर प्यार
जाने आत्मा को कौन सा नहला जाय!



व्यर्थ है करना खुशामद रास्तों की
काम अपने पाँव ही आते सफर में
वह न ईश्वर के उठाए भी उठेगा
जो स्वयं गिर जाय अपनी ही नज़र में



हर लहर का कर प्रणय स्वीकार
जाने कौन तट के पास पहुँचा जाए!


- रामावतार त्यागी (Ram Avtar Tyagi)

Suraj ko nahi doobne dunga

सूरज को नही डूबने दूंगा
 

अब मै सूरज को नही डूबने दूंगा
देखो मैने कंधे चौडे कर लिये हैं
मुट्ठियाँ मजबूत कर ली हैं
और ढलान पर एडियाँ जमाकर
खडा होना मैने सीख लिया है



घबराओ मत
मै क्षितिज पर जा रहा हूँ
सूरज ठीक जब पहाडी से लुढकने लगेगा
मै कंधे अडा दूंगा
देखना वह वहीं ठहरा होगा
अब मै सूरज को नही डूबने दूंगा



मैने सुना है उसके रथ मे तुम हो
तुम्हे मै उतार लाना चाहता हूं
तुम जो स्वाधीनता की प्रतिमा हो
तुम जो साहस की मुर्ति हो
तुम जो धरती का सुख हो
तुम जो कालातीत प्यार हो
तुम जो मेरी धमनी का प्रवाह हो
तुम जो मेरी चेतना का विस्तार हो
तुम्हे मै उस रथ से उतार लाना चाहता हूं


रथ के घोडे
आग उगलते रहें
अब पहिये टस से मस नही होंगे
मैने अपने कंधे चौडे कर लिये है।


 कौन रोकेगा तुम्हें
मैने धरती बडी कर ली है
अन्न की सुनहरी बालियों से
मै तुम्हे सजाऊँगा
मैने सीना खोल लिया है
प्यार के गीतो मे मै तुम्हे गाऊंगा
मैने दृष्टि बडी कर ली है
हर आखों मे तुम्हे सपनों सा फहराऊंगा


सूरज जायेगा भी तो कहाँ
उसे यहीं रहना होगा
यहीं हमारी सांसों मे
हमारी रगों मे
हमारे संकल्पों मे
हमारे रतजगो मे
तुम उदास मत होओ
अब मै किसी भी सूरज को
नही डूबने दूंगा


- सर्वेश्वरदयाल सक्सेना (Sarveshwar Dayal Saxena)

Kisko naman karun main Bharat ?

किसको नमन करूँ मैं भारत?


तुझको या तेरे नदीश, गिरि, वन को नमन करूँ, मैं ?
मेरे प्यारे देश ! देह या मन को नमन करूँ मैं ?
किसको नमन करूँ मैं भारत ? किसको नमन करूँ मैं ?


भू के मानचित्र पर अंकित त्रिभुज, यही क्या तू है ?
नर के नभश्चरण की दृढ़ कल्पना नहीं क्या तू है ?
भेदों का ज्ञाता, निगूढ़ताओं का चिर ज्ञानी है
मेरे प्यारे देश ! नहीं तू पत्थर है, पानी है
जड़ताओं में छिपे किसी चेतन को नमन करूँ मैं ?
भारत नहीं स्थान का वाचक, गुण विशेष नर का है
एक देश का नहीं, शील यह भूमंडल भर का है
जहाँ कहीं एकता अखंडित, जहाँ प्रेम का स्वर है
देश-देश में वहाँ खड़ा भारत जीवित भास्कर है
निखिल विश्व को जन्मभूमि-वंदन को नमन करूँ मैं !


खंडित है यह मही शैल से, सरिता से सागर से
पर, जब भी दो हाथ निकल मिलते आ द्वीपांतर से
तब खाई को पाट शून्य में महामोद मचता है
दो द्वीपों के बीच सेतु यह भारत ही रचता है
मंगलमय यह महासेतु-बंधन को नमन करूँ मैं !



दो हृदय के तार जहाँ भी जो जन जोड़ रहे हैं
मित्र-भाव की ओर विश्व की गति को मोड़ रहे हैं
घोल रहे हैं जो जीवन-सरिता में प्रेम-रसायन
खोर रहे हैं देश-देश के बीच मुँदे वातायन
आत्मबंधु कहकर ऐसे जन-जन को नमन करूँ मैं !


उठे जहाँ भी घोष शांति का, भारत, स्वर तेरा है
धर्म-दीप हो जिसके भी कर में वह नर तेरा है
तेरा है वह वीर, सत्य पर जो अड़ने आता है
किसी न्याय के लिए प्राण अर्पित करने जाता है
मानवता के इस ललाट-वंदन को नमन करूँ मैं !

- रामधारी सिंह दिनकर (Ramdhari Singh Dinkar)