Monday 24 October 2011

प्रभु आये थे अयोध्या पूरा कर के अपना वनवास


प्रभु आये थे अयोध्या पूरा कर के अपना वनवास
उसी पावन प्रेम में झूम रहा अब तक ये जनवास

प्रभु के मंगलकारी वचन जीवन में उतारते जायें
नहीं भगवान् तो कम से कम इंसान हम बनते जायें

अपने अहम् को रख दें प्रभु चरणकमल के पास
प्रभु आये थे अयोध्या पूरा कर के अपना वनवास


क्या क्या कष्ट सहा परमेश्वर ने भक्तों को सुख देने हेतु
उत्थान किया लीलाओं से और बनाया प्रभु ने रामसेतु

प्यारे प्रभु श्रीराम का उपदेश है स्वयं वेदों का स्वास
प्रभु आये थे अयोध्या पूरा कर के अपना वनवास



सतयुग,त्रेता और द्वापर आज भी कहीं गए नहीं
जो राग-द्वेष से अपनी आत्मा को हम ढके नहीं

दीपावली का अर्थ है बस ह्रदय में उजाले का वास

प्रभु आये थे अयोध्या पूरा कर के अपना वनवास 







29 comments:

  1. ये उजाले यूँ ही मुस्कुराते रहे .....

    शुभकामनाएं .....

    ReplyDelete
  2. Very well written.
    Wish you and family a very Happy Diwali.

    ReplyDelete
  3. बेहद सुन्दर प्रस्तुति । मन को सुकून देने वाली।
    शुभ दीपावली।

    ReplyDelete
  4. वाह ...बहुत ही बढि़या ...

    कल 26/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है, दीपोत्‍सव की अनन्‍त शुभकामनाएं .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. दीपावली का अर्थ है बस हृदय में उजाले का वास।
    बहुत सुंदर संदेश।
    दीपावली की हार्दिक बधाइयां एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. मित्रों, परिजनों के साथ आपको भी पर्व की मंगलकामनायें!
    तमसो मा ज्योतिर्गमय!

    ReplyDelete
  7. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  9. ज्योतिपर्व की मंगलकामनाएं!!

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति…………दीप मोहब्बत का जलाओ तो कोई बात बने
    नफ़रतों को दिल से मिटाओ तो कोई बात बने
    हर चेहरे पर तबस्सुम खिलाओ तो कोई बात बने
    हर पेट मे अनाज पहुँचाओ तो कोई बात बने
    भ्रष्टाचार आतंक से आज़ाद कराओ तो कोई बात बने
    प्रेम सौहार्द भरा हिन्दुस्तान फिर से बनाओ तो कोई बात बने
    इस दीवाली प्रीत के दीप जलाओ तो कोई बात बने

    आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति!
    शुभ दीपावली!

    ReplyDelete
  12. दीपावली पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर....दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  14. दीपो का ये महापर्व आप के जीवन में अपार खुशियाँ एवं संवृद्धि ले कर आये ...
    इश्वर आप के अभीष्ट में आप को सफल बनाये एवं माता लक्ष्मी की कृपादृष्टि आप पर सर्वदा बनी रहे.

    शुभकामनाओं सहित ..
    आशुतोष नाथ तिवारी

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छी रचना।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर रचना ... दीपावली की शुभकामनायें



    कृपया वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छी रचना ....राम चरित्र का वर्णन बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर रचना...ब्लॉग पर आने हेतु आभार|

    ReplyDelete
  19. कुछ अनूठा सा ब्लॉग लगा..रचना अच्छी है साथ दिए चित्र मनभावन हैं

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर रचना ... दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  21. बिना बनवास और त्याग के समृद्धि का सुख कहाँ ?

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दर कविता |
    राम जी के वर्णन मन को कितना आनंद देते हैं !! - और भक्तिबहाव से परिपूर्ण हो कर लिखी कवितायेँ और भी :)

    आपका बहुत आभार | दीपावली की बधाईयाँ :)

    @ arvind sir - sir - shri ram ka ek paavan naam hai - sacchidaanand - arthaat - sat+chit+aanand = He is beyond "tyag" "samruddhi" , "sukh" etc ... :)

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर रचना|
    आपको तथा आपके परिवार को दिवाली की शुभ कामनाएं!!!!

    ReplyDelete
  24. bahoot hi sunadar kavita hai..jai sri ram............

    ReplyDelete