Monday 28 November 2011

परमात्मा परमेश्वर हे शंकर हे शम्भू हे जगतपति जगदीश




परमात्मा परमेश्वर हे शंकर हे शम्भू हे जगतपति जगदीश
हे प्रनतपालक हे दयासिन्धु हे भव भंजक तुम सबके अभीष्ट

तू भोला तू अन्तर्यामी सृष्टिकर्ता पालनकर्ता
हे रूद्र तू तप रूप तू ही तप का आश्रय दाता
समुद्र मंथन में निकले विष से जब जग मिटने लगा
हे नीलकंठ कंठ में धारण कर तूने उसे भी अमृत किया
हे उदार,हे शीघ्र प्रसन्न होने वाले जगतपालनहार
गंगा को पृथ्वी पर लाने हेतु जटाओं पर लिया उतार
हे मायातीत हे कालातीत तुम दक्ष प्रजापति को क्षमा करने वाले
हे गुनातीत तुम काली के भी भीषण क्रोध को रोकने वाले
हे हर हे महेश हे भवानीपति तुम्हे ही भजते हैं प्यारे गणपति
हे उदासीन हे कृपासिंधु दीनजनो पर हमेशा करुणा रहती तुम्हारी
मैं पापी कुबुद्धि कपटी कुटिल तनिक देखो प्रभु एक ओर हमारी

हे मनोज मर्दन, तुम्हारे चरणरज से शोभा पाता है गिरीश
परमात्मा परमेश्वर हे शंकर हे शम्भू हे जगतपति जगदीश  



माता पार्वती संग प्रभु ह्रदय में विराजो मेरे
ह्रदय जो शुद्ध न हो तो हरो पाप सब मेरे
श्रद्धा विश्वास का प्रतिरूप आप दोनों वेदों ने गाया है
करो कृपा प्रभु मैंने तो पाप में ही जीवन गंवाया है
जोग जप तप शम दम नियम न जानू प्रभु पूजन भी
उपासना के वक़्त भी प्रभु छोड़ न पाऊं विषय चिंतन ही
प्रभु आप और माता से ही सीता राम की भक्ति मिलती है
और सियाराम की भक्ति से ही आप दोनों की भक्ति मिलती है
सियाराम के सेवक स्वामी सखा हैं आप और माता
आपकी कृपादृष्टि से निर्मल बुद्धि का द्वार है खुल पाता
प्रभु माता गौरी संग प्रभु कार्तिकेय प्रभु गणेश को ध्यान करता रहूँ
ललाट पर चन्द्रमा धरे पभु आपको ह्रदय में धरे नयनो से सींचता रहूँ

अंतःकरण को शुद्ध करो अपनी भक्ति दो हे ईश हे गौरीश
परमात्मा परमेश्वर हे शंकर हे शम्भू हे जगतपति जगदीश








7 comments:

  1. भक्ति भाव से परिपूर्ण सुन्दर प्रस्तुती!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. भगवान शंकर की स्तुति में भावपूर्ण भजन।

    ReplyDelete
  3. भगवान शंकर की स्तुति में भावपूर्ण भजन।

    ReplyDelete
  4. बहुत भक्तिमय प्रस्तुति...जय शिव शंकर

    ReplyDelete
  5. jay bhole naath
    jai shiv sanker

    ReplyDelete